Google+ Followers

Google+ Followers

रविवार, 8 मार्च 2015

नारी के रूप हजारों








#
नारी तुम आँचल हो ,ममता का आँगन हो
नारी तुम मंजरी हो , ग्रहणी हो पावन हो

नारी तुम आशा हो , ज्योति हो मोती हो
नारी तुम पृथ्वी हो , भक्ति हो शक्ति हो
नारी तुम कम्पन हो , वामा समर्पण हो
नारी तुम अर्पण हो , नारी तुम दर्पण हो

चंचल हो कंचन हो , करुणा हो रश्मि हो
तरंग हो, पतंग हो , सुरभि सुगंधि हो
नारी तुम सुता हो , तनया हो नंदनी हो
नारी तुम संगनी हो , नारी तुम बंदनी हो

नारी तुम शीतल हो , सरल हो तरल हो
नारी तुम कुम्भी हो , नाभि हो गरल हो
नारी तुम कोमल हो , कामा हो काया हो
नारी तुम माया हो , नारी तुम छाया हो  
#सारस्वत
08032015