Google+ Followers

Google+ Followers

शनिवार, 3 अक्तूबर 2015

आजा मितरा ...

#

पूरब से चलकर पश्चिम तक , लालिमा आ गई है मितरा
सफर दैनिक आदित्य श्री , आज फिर समपूर्ण हुआ मितरा
आजा मितरा  ...

संध्याबेला में लौटने लगें हैं , पक्षीझुण्ड वापस नगरकोट को
तू भी आ जा अपने घर को , तेरी राह निहारे आँगन मितरा
आजा मितरा  ...

दुःख के बादल छट जायेंगें , गले मिल कर जब बिसरायेंगें
थम जायेंगीं तपिश तरंगें , प्रभात सुनहरी आएगी मितरा
आजा मितरा  ...

आसमान देखो ढलने लगा है , हवायें मद्धम पड़ने लगी हैं
सांसे घुलकर गलने लगीं हैं , मिलन पुकारे अंतिम मितरा
आजा मितरा  ...

#सारस्वत
25082015