Google+ Followers

Google+ Followers

शनिवार, 3 मई 2014

.... नये गुर सीखे हैं ….

#
नये   गुर    सीखे    हैं   ,  नये   पेड़   सीचें   हैं
आज   के   समाज   ने ,  नये  दम्भ  सीखे  हैं
नई लिक्खी है किताब , नये शब्द का रिवाज
छन्द  बन्द  सब  नये , नये  हुड़दंग  सीखे  हैं
नये   गुर    सीखे    हैं   …
शकल  की  नक़ल में , रंग   ढंग   अकल   में
सच्च   पे   झूठ   के  , सब  दावे  वादे  ठूंठ के
रीढ़   है   ना  मूँछ  है , पैंदी   में    भी   छेड़  है
खेद गऊ ग्रॉस ने यहाँ , हारी  बाज़ी  जीती  हैं
नये   गुर    सीखे    हैं   …
ख्वाइशों की फौज है , फरमाइशों पे शोध है
उड़  गये  उसूल  सारे , सब  हुऐ  अंगरेज हैं
सुवाद की कटोरी में , ली सुबकियाँ चटोरी ने
सबर कबर में दफ़न , ईमान  हुआ   चोरी  है
नये   गुर    सीखे    हैं   …
उड़ गई पतंग बन के ,   सिर   की       पगड़ी
चलन में बदचलन नसल , पोहोंच  में  तगड़ी
जहाँ की जिंदगी मौत , शुरू जिन्दगी वहीं से है
नई होड़ के समाज ने , ये  रीत  नई  सीखी  है
नये   गुर    सीखे    हैं   …
नई  सोच  नई  बात ,  सच से आँखें  मीची  हैं
नये बीज नई फ़सल , सभी लालची में लीची हैं
तमीज की कमीज़ में , ये सलवटों का दौर है
                                                              ऊँठ   की   दौड़  में  , अब नहीं किसीसे पीछे हैं
                                                              #सारस्वत
                                                              03052014