Google+ Followers

Google+ Followers

शुक्रवार, 9 मई 2014

न वो बोले न हम बोले













#
मैं ये सोच के बैठा था , ये पूछूंगा जब मिलूंगा
लेकिन , यूँ मिले अचानक से
न वो बोले न हम बोले
*
निगाहें मिली मुस्कुराये , कदम हिले करीब आये
हुऐ मशगूल रिवाजों में , इस कदर
न वो बोले न हम बोले
*
हाथ पकड़ कर हाथ में , खड़े थे आपने सामने
दिलों में इतनी थी दूरियाँ , के
न वो बोले न हम बोले
#सारस्वत
09042014